अगर आप तेजी से सफलता हासिल करना चाहते हैं तो पारंपरिक को्र्स की जगह नये कोर्स करें। समय और जरुरतों के अनुसार कारोबार जगत की मांगें बदलती रहती हैं। आजकल कुछ ऐसे कोर्स आये हैं जिनको कर आप आसानी से नौकरी हासिल कर सकते हैं और अपना स्वयं का काम भी शुरु कर सकते हैं।  
कॉरपोरेट लॉ 
लीगल सेक्टर में रूचि रखने वाले स्टूडेंट्स अब कॉरपोरेट लॉ में अपना करियर बना रहे हैं। नौकरी और कमाई के अच्छे अवसर होने की वजह से आप भी इस क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं। हाल ही के कुछ सालों में कॉरपोरेट लॉ के मामले में वकालत में भी खास बदलाव आया है।
कॉरपोरेट्स लॉयर, कॉरपोरेशंस को उनके कानूनी अधिकारों और सीमाओं के बारे में सलाह देते हैं। कॉरपोरेट लॉ एक व्यापक व आकर्षक करियर बन गया है। कॉरपोरेट लॉयर अपने क्लाइंट्स को कानूनी तरीके से कारोबार करने में मदद करता है। उसकी जिम्मेदारी नई फर्म के लिए शुरुआती दस्तावेज तैयार करने से लेकर कॉरपोरेट ऑर्गनाइजेशन करने तक की रहती है। 
कंपनियां लीगल को अपने कारोबार के कोर स्ट्रेटेजिक फैक्टर के रूप में हैं, इसलिए स्वतंत्र वकीलों और इन-हाउस लीगल टीम की मांग लगातार बढ़ी है। रोजगार के बाजार में वकीलों की मांग अचानक बहुत तेजी से बढ़ी है। एक अनुमान के मुताबिक भारतीय फर्म पिछले साल से दोगुनी संख्या में वकीलों को नौकरी पर रखेंगी। मांग न केवल सीनियर पोजीशन पर बढ़ी है, बल्कि प्रवेश स्तर पर भी बढ़ी है।
स्पा थेरेपी: हाल के दिनों में सेवा क्षेत्र में बेहद तेजी आयी है।यह कोर्स कोई भी कर सकता है, बशर्ते उसे लोगों को मानसिक और शारीरिक रूप से आराम पहुंचाने में रुचि हो और वह उसमें अपना करियर बनाने की इच्छा रखता हो। पहले साल में शुरुआती वेतन 1 से 2 लाख रुपये तक हो सकता है। आप अपना स्वयं का स्पा सेंटर भी खोल सकते हैं। 
ब्रांड प्रबंधन : अगर आपके अंदर अच्छी चीजों के प्रति गहरा लगाव है तो लग्जरी ब्रांड मैनेजमेंट आपके लिए अच्छा करियर हो सकता है। भारत में जिस तरह से दिनों दिन लग्जरी मार्केट विकसित होती जा रही है, उसे देखते हुए इस क्षेत्र में दक्ष पेशेवरों के लिए काफी अवसर निकलते जा रहे हैं।
टी टेस्टिंग: आजकल चाय का स्वाद बढ़ाने के लिए चाय की पत्ती बनाने वाली कंपनियां लंबे समय से पेशेवर टी टेस्टरों की सेवाएं लेती आ रही हैं। ये टी टेस्टर चाय की पत्ती के स्वाद, उसकी क्वालिटी और तैयारी को जांचने के लिए पेशेवरों को नौकरी पर रखती हैं।
एथिकल हैकिंग: हाल के दिनों में साइबर अपराधों के बढने के साथ ही सरकारी के साथ ही निजी क्षेत्रों में हैकरों की मांग बढ़ती जा रही है। एथिकल या वैध हैकर कॉरपोरेट नेटवर्क की तह में जाता है और उसकी सुरक्षा के लिए कुछ नए उपाय निकालता है। इसमें शुरुआती वेतन प्रति माह 27,000 से 30,000 रुपये मिल सकते हैं।