मरवाही उपचुनाव से जोगी परिवार का जाति विवाद अब मान-सम्मान की लड़ाई तक पहुंच गया है। ऋचा जोगी को भेजे गए नोटिस पर उनके पति अमित जोगी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर निशाना साधा है। अमित जोगी ने कहा, मुख्यमंत्री जी, आप अपने घर-परिवार में कुछ भी कीजिए, लेकिन मेरी धर्म पत्नी का अपमान करना बंद करिए। आखिर वह आपकी भी बहू है।

दरअसल, मुंगेली की जिला स्तरीय जांच समिति ने जाति विवाद मामले में ऋचा जोगी को नोटिस जारी किया था। इसमें जवाब देने का गुरुवार को अंतिम दिन था। इसके बाद मुंगेली जिला प्रशासन ने उनके पेंड्रीडीह गांव स्थित मायके के मकान में नोटिस चस्पा कर 10 दिन में हाजिर होने के लिए मुनादी करा दी। साथ ही नहीं पहुंचने पर एक पक्षीय कार्यवाही करने की चेतावनी भी दी गई है।

शादी के बाद लड़की का घर उसका ससुराल होता है
छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस अध्यक्ष अमित जोगी ने नोटिस को लेकर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा, अजीत जोगी की बहू गुमशुदा या फरार है कि कलेक्टर मुंगेली को उनके स्वर्गीय दादा के घर में नोटिस चस्पा कर गांव में मुनादी करानी पड़ी। मर्यादा की भी हद होती है। सबको पता है कि लड़की का घर उसका ससुराल होता है। क्या एक बार भी उन्होंने आधार कार्ड वाले पते पर नोटिस भेजा?

एक दिन पहले ही ऋचा जोगी ने कहा था- उन्हें नोटिस नहीं मिला
एक दिन पहले ही गुरुवार को ऋचा जोगी ने किसी भी तरह के नोटिस मिलने की बात से इनकार किया था। उन्होंने कहा कि जब नोटिस मिलेगा तो वह जरूर सुनवाई में जाएंगी। ऋचा जोगी ने कहा था कि नवजात बेटे के कारण वे अभी होम आइसोलेशन में हैं। नोटिस मिलने के बाद सुनवाई में उपस्थित होंगी। साथ ही आरोप लगाया कि उन्हें अंधेरे में रखकर कार्रवाई की जा रही है।