टोक्यो । अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) के अध्यक्ष थॉमस बाक और स्थानीय आयोजकों की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। जिस प्रकार ओलंपिक आयोजन को लेकर नकारात्मक रिपोर्टें आ रही हैं। उससे संशय का माहौल बनता जा रहा है। इनमें कहा जा रहा है कि कोरोना संकेमण के खतरे को देखते हुए ओलंपिक खेलों का आयोजन संभव नहीं है, इसलिए इसे रद्द कर दिया जाएगा। वहीं कोरोना वायरस महामारी के कारण पहले ही एक साल के लिए स्थगित हुए ओलंपिक खेलों के सफल आयोजन के  लिए आईओसी पूरे प्रयास कर रही है। खेलों का उद्घाटन समारोह 23 जुलाई को होना है। वहीं इसी बीच राजनेताओं की बयानबाजी हालात कठिन कर रही है। हाल ही में सत्ताधारी गठबंधन के वरिष्ठ सदस्य ने कहा, ‘‘कोई भी सबसे पहले इस बात को नहीं कहना चाहता लेकिन सहमति यह है कि इसका आयोजन बेहद मुश्किल है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘निजी तौर पर मुझे नहीं लगता कि इसका आयोजन होगा।’’ वहीं स्थानीय आयोजन समिति ने कहा कि ओलंपिक के आयोजन की तैयारी आगे बढ़ रही है और उन्हें प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा का समर्थन हासिल है। बयान में कहा गया, ‘‘राष्ट्रीय सरकार, टोक्यो राज्य सरकार, तोक्यो 2020 आयोजन समिति, आईओसी और आईपीसी (अंतरराष्ट्रीय पैरालंपिक समिति) सहित हमारे सभी साझेदारों का ध्यान इन गर्मियों में खेलों की मेजबानी पर है।’’