अगर आपको ऑफिस में अच्छा नहीं लगता और काफी दिनों से ऑफिस का काम बोझ जैसा लगने लगे तो ये नौकरी बदलने का संकेत हो सकता है। ऑफिस का काम उबाऊ लगे और काम में मन ना लगे तो नई नौकरी बदलने का यही सही समय रहेगा। ऐसे में अपनी पसंद का काम तलाशना शुरु कर दें। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। 
हो सकता है कि आप जहां काम करते हैं वहां आपकी आपके बॉस से हर वक्त अनबन रहती हो। इससे आपको समय-समय पर बॉस के नकारात्क रुख को भी झेलना पड़ सकता है। जहां तक संभव हो नौकरी बदल लेना ही ठीक होगा।
नौकरी छोड़ने का एक बड़ा कारण ऑफिस का माहौल भी होता है। ऑफिस का माहौल सकारात्मक और नकारात्क दोनो तरह का हो सकता है लेकिन अगर ऑफिस का माहौल आपके लिए हर समय नकारात्मक हो आपके साथ काम करने वाले आपकी हर समय शिकायत करते रहते हों, बॉस भी आपसे खुश ना हों तो जरूरत है कि आपको अपनी नौकरी बदल लेनी चाहिए।
बोरियत
कभी-कभी अपने काम से बोरियत होना आम बात है लेकिन अपने काम से रोजाना बोरियत महसूस होने लगे और अपने काम से दिलचस्पी हटने लगे तो नौकरी बदल लेने का यही सही वक्त है।
ऑफिस में अगर नियमित तौर पर काम न होने की वजह से ऐसा लगने लगे की आप सिर्फ समय काटने के लिए ऑफिस आते हों तो ये बदलाव का समय है। ऑफिस में सिर्फ टाइम पास करके अपना हुनर जाया करने से बेहतर है कि दूसरी नौकरी खोज कर अपने हुनर का इस्तेमाल किया जाए।
हो सकता है कि कंपनी के लक्ष्य आपके निजी लक्ष्यों से मेल ना खाते हों। अगर कंपनी के लक्ष्यों को पूरा करते हुए आपकी ग्रोथ नहीं हो रही है तो संभल जाने का सही वक्त यही है. इसका सीधा-सीधा मतलब है कि आपको अपनी नौकरी बदल लेनी चाहिए।
ऑफिस का काम तनाव से भरा भी हो सकता है। कभी-कभी काम में तनाव होना कोई खास बात नहीं है लेकिन रोजाना काम में तनाव होने से आप तनावग्रस्त हो सकते हैं। इससे आपके मानसिक रुप से कमजोर होने का खतरा काफी बढ़ जाता है। इसके अलावा भी तनाव कई मायनों में नुकसान पहुंचाता है। ऐसे में नई नौकरी लेना ही बेहतर होता है।