मुंबई । बॉलीवुड एक्टर सैफ अली खान ने ऑटोबायोग्राफी लिखने से इंकार कर ‎दिया है। दरअसल, नेटिजेंस ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया था। नेटिजेंस का कहना था ‎कि क्या सैफ जो दिवंगत दिग्गज क्रिकेटर मंसूर अली खान पटौदी और एक्ट्रेस शर्मिला टैगोर के बेटे हैं, नेपोटिज्म से पीड़ित हो सकते हैं। क्या वे ऑटोबायोग्राफी में उसी 'संघर्ष' के बारे में लिखने जा रहे हैं। हाल ही में सैफ अली खान और जैकलीन फर्नांडिस सोशल मीडिया पर्सनैलिटी और ऐक्टर अमांडा सर्नी के पॉडकास्ट में शरीक हुए। इस प्रोग्राम में सैफ ने कहा कि वे ऑटोबायोग्रफी लिखने के लिए बहुत उत्साहित थे, लेकिन अब वे इसे नहीं लिखना चाहते हैं। सैफ ने कहा कि वे आत्मकथा लिखकर लोगों की गालियां सुनने के लिए तैयार नहीं हैं। उन्होंने तर्क दिया कि ईमानदारी और बेबाकी से वे अपनी किताब लिखेंगे और लोग उसके लिए उनकी कड़ी आलोचना करेंगे। उन्होंने कहा ‎कि "मैं वास्तव में खेद के साथ कहने जा रहा हूं कि मुझे लगता है कि सामान्य ऑडियंस नहीं, और केवल सामान्य ऑडियंस नहीं बल्कि देश में दर्शकों का एक ऐसा वर्ग होगा जो इसमें इतना निगेटिव है कि मैं अपनी आत्मकथा लिखकर उसके साथ अपनी लाइफ और बातें शेयर नहीं कर सकता।" सैफ ने हंसते हुए कहा कि उन्होंने अपने प्रकाशकों को यह भी नहीं बताया है कि आत्मकथा लिखने के बारे में उनका मन बदल गया है। एक किस्सा शेयर करते हुए उन्होंने कहा ‎कि शायद मैं ऐसा करूंगा, शायद मैं नहीं करूंगा। उन्होंने कहा ‎कि "जब मैं टहल रहा था तो बुक में मुझे यह डिस्क्राइब करना चाहिए कि मैं इन पेड़ों को देखकर क्या महसूस कर रहा था और सोच रहा था कि हम कितने भाग्यशाली हैं कि हम हिमाचल में शूटिंग कर रहे हैं, और वास्तव में ऐसा नहीं है।'' हालां‎कि इससे पहले सैफ ने बताया था कि उनकी ऑटोबायोग्राफी में परिवार, करियर, फिल्में, सक्सेस और फेल्योर के बारे में खुलकर चर्चा की जाएगी और उनकी यह बॉयोग्राफी 2021 में पब्लिश होने वाली थी। ले‎किन अब सैफ की ऑटोबायोग्रफी के लिए लोगों को इंतजार करना पड़ेगा।