हाई कोलेस्टेरॉल को घरेलू उपाय अपनाकर भी कम किया जा सकता है। हाई कोलेस्ट्रॉल आज के समय में लोगों के लिए एक बहुत बड़ी समस्या बनकर सामने आ रही है। आजकल लोगों की अनियमित जीवनशैली और गलत खानपान से उनकी सेहत पर बहुत बुरा प्रभाव पड़   रहा है जिसकी वजह से लोगों में हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या दिन प्रतिदिन उभरती जा रही है। आज के समय में भारत में 100 में से 27 प्रतिशत लोगों को हाई कोलेस्ट्रॉल की शिकायत है जो बहुत ही बड़ा चिंता का विषय है। उच्च कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए लोग कई तरह की दवाईयां लेते है, जिनके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं परन्तु विभिन्न तरह के घरेलू उपायों से भी हाई कोलेस्ट्रॉल को कम किया जा सकता है। कोलेस्ट्रॉल कम करने के प्राकृतिक उपाय काफी असरदार और लाभदायक माने जाते हैं।
हाई कोलेस्ट्रॉल हमारी रक्त वाहिकाओं में अवरोध पैदा करके कई तरह की गंभीर बीमारियाँ जैसे दिल का दौरा, आघात का कारण भी बन सकता है जो जानलेवा और घातक हो सकती है।
हाई कोलेस्ट्रॉल कम करने के घरेलू उपाय
हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिये आज के समय में हमारे घर में बहुत सी चीज़े उपलब्ध होती है, परन्तु ज़्यादातर हम उन उपायों पर गौर नही करते है जिन चीजों को हम बेकार या बेस्वाद समझते है वही चीज़े हमारे लिए औषधि का काम करती है जिनसे हम कोलेस्ट्रॉल कम करने के साथ ही साथ कई तरह की बीमारियों को नियंत्रित कर सकते है।
कई तरह के खाद्य पदार्थो से हाई कोलेस्ट्रॉल को कम या नियंत्रित किया जा सकता है, क्योकि सही खानपान और अनुशासित जीवनशैली से ही हाई कोलेस्ट्रॉल और अन्य बीमारियाँ नियंत्रित हो सकती  है। ऐसे ही हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने के कुछ खाने की वस्तुओं के बारे में  सूचि इस प्रकार है-
हाई कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए लहसुन बहुत ही अच्छा घरेलू उपाय है लहसुन एक तरह का खाने योग्य पदार्थ (एडिबले   बल्ब ) होता है। यह अपनी खुशबू और स्वाद की वजह से जाना जाता है। लहसुन का उपयोग हाई कोलेस्ट्रॉल को करने के लिए भी किया जाता है। इसमें सबसे ज्यादा मात्रा में जो यौगिक  पाया जाता है वह है एलिसिन  जो सबसे ज्यादा ताज़े लहसुन में ही पाया जाता है,   लहसुन में सल्फर यौगिक  की भी पर्याप्त मात्रा पायी जाती है। लहसुन खाने से सल्फर यौगिक पाचन तंत्र से शरीर में प्रवेश करते हैं और पूरे शरीर में यात्रा करते हैं और वहां से यह अपने शक्तिशाली जैविक प्रभावों  को बढ़ाता है।
कई शोध में यह माना गया है की लहसुन को खाने से मनुष्य का रक्तचाप ठीक रहता है और रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को भी यह नियंत्रित करता है। लहसुन में एंटी-वायरल , जीवाणुरोधी  और एंटी-फंगल  गुण भी पाए जाते है और यह लीवर को बिना किसी अवरोध के कार्य करने में मदद करता है।
लहसुन में बहुत से प्रभावशाली गुण होते है, परन्तु इसमें कैलोरी बहुत ही कम मात्रा में होती है, इसके हर सर्विंग में केवल 28 ग्राम की मात्रा होती है, इसमें 1.8 ग्राम प्रोटीन और 9 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता है।  लहसुन में मैंगनीज, विटामिन बी 6, विटामिन सी, सेलेनियम, फाइबर, कैल्शियम, तांबा , पोटेशियम, फास्फोरस, लोहा  और विटामिन बी 1 की मात्रा भी पाई जाती है जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता है और हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करता है।
लहसुन का उपयोग अपनी शक्ति के अनुसार चटनी या कच्ची कली या सेंक कर खाया जा सकता हैं
हल्दी को हमेशा से हमारी भारतीय संस्कृति में औषधीय गुणों के लिए जाना जाता है। हल्दी का सेवन और उपयोग हर घर में होता है, इसे हम खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए डालते है परन्तु इसके और भी कई फायदे और उपयोग है जिससे हम अपने शरीर में बढ़े हुए हाई कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकते है। ज्यादातर घरो में हल्दी का उपयोग चोट लगने पर किया जाता है, परन्तु यह बहुत ही कम लोग जानते है की इसके उपयोग से हाई कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम किया जा सकता है। हाई कोलेस्ट्रॉल की वजह से धमनियों  की दीवार पर जो कोलेस्ट्रॉल पट्टिका  जमा होती है, हल्दी उसको दीवार पर जमने से रोकती है जिससे हाई कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की संभावना कम हो जाती है।
हल्दी के पाउडर को दूध में मिलाकर लेना चाहिए
कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने कई तरह के घरेलू उपायों में से एक है सेब का सिरका, इसे भी हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए उपयोग किया जाता है, इसमें भी कई औषधीय गुण पाए जाते है जो हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है और हाई कोलेस्ट्रॉल के जोखिम को कम करता है। सिरका (विनेगार ) बनाने की प्रक्रिया में सेब में से चीनी को अलग करके बनाया जाता है यह उसे एसिटिक एसिड  में बदल देता है जो सिरके में और ज्यादा सक्रिय घटक की तरह काम करता है। वैसे तो इसका स्वाद बहुत ही कसाव भरा होता है परन्तु अगर इसे किसी जूस में मिलाकर लिया जाये तो इसका स्वाद काफी बेहतर हो जाता है और यह हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी लाभदायक होता है।
आज के समय में जो लोग अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग है वह जई (ओट्स ) और दलिया (ओटमील ) के बारे में और उसके विभिन्न उपयोगो के बारे में अवश्य जानते होंगे ओट्स और दलिया दोनों में ही बहुत सारे पोषक तत्त्व होते है। हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है, ज़्यादातर लोग जई या दलिया को नाश्ते में दूध और उबले पानी के साथ लेते है। इसमें कई तरह के घुलनशील फाइबर  होते है यह शरीर में से उच्च कोलेस्ट्रॉल  की मात्रा को कम करता है। ओट्स में कई तरह के महत्वपूर्ण विटामिन, खनिज , फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट  होते है जो हाई कोलेस्ट्रॉल के जोखिम को कम करते है अथवा दिल के दौरे की संभावना को कम करके शरीर को स्वस्थ रखते है।
एक कटोरी ओट्स में मैंगनीज, फास्फोरस, मैगनीशियम, तांबा , लोहा , जिंक, फोलेट , विटामिन बी 1, विटामिन बी 5 की प्रचुर मात्रा होती है। इसमें कैल्शियम, पोटेशियम, विटामिन बी 6 (पाइरिडोक्सिन) और विटामिन बी 3 (नियासिन) की बहुत ही कम  मात्रा होती है।इसमें 51 ग्राम कार्ब्स, 13 ग्राम प्रोटीन, 5 ग्राम वसा (fat) और 8 ग्राम फाइबर होता है और केवल 303 कैलोरी पायी जाती है।
इसलिए ओट्स हाई कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए बहुत ही आसान घरेलू नुस्खे में से एक माना जाता है।
धनिया के बीज का उपयोग हाई कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने के लिए किया जाता है। ज़्यादातर लोग धनिया के बीज का इस्तेमाल विभिन्न बीमारियों के लिए करते है परन्तु बहुत से लोग इसका उपयोग हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए भी करते है। धनिया के बीज में कई तरह के महत्वपूर्ण पोषक तत्त्व पाए जाते है जैसे विटामिन ए, फोलिक एसिड और बीटा-कैरोटीन  और इसमें सबसे महत्वपूर्ण तत्त्व होता है विटामिन सी, जो शरीर में जाकर ख़राब कोलेस्ट्रॉल को जमने से रोकता है और शरीर को स्वस्थ बनाता है, जिससे कोलेस्ट्रॉल की अनेक बीमारियों से बचा जा सकता है।धनिया के दाना को सब्जी में डालकर या दाना को शक्कर के साथ या गुड़ के साथ खा सकते हैं।
हाई कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने के लिए कई घरेलू नुस्खो में से एक है इसबगोल की छाल (पसीलियम  हस्क ), इसमें सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्त्व होता है घुलनशील फाइबर  यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करके दिल की बीमारियों से बचाता है और जोखिम को कम करता है। 1-2 चम्मच रोज इसका उपयोग करने से हाई कोलेस्ट्रॉल होने की संभावना को घटाया जा सकता है।
मेथीदाना को भारतीय घरो में मसाले के तौर पर स्वाद बढ़ाने के लिए और दवाई की तरह भी इस्तेमाल किया जाता है। हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने के घरेलू नुस्खे के रूप में मेथीदाना बहुत ही लाभदायक माना जाता है मेथीदाना को कई तरह की बीमारियों से बचने के लिए उपयोग किया जाता है, परन्तु इसके इस्तेमाल से हाई कोलेस्ट्रॉल को भी कम किया जा सकता है। मेथी के बीज विटामिन ई से भरपूर होते हैं और इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी  और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। मेथी में पाए जाने वाले सैपोनिन्स  शरीर से कोलेस्ट्रॉल को हटाने में मदद करते हैं और इसका फाइबर लिवर में संश्लेषण  को कम करने में मदद करता है। रोजाना 1/2 से 1 चम्मच मेथी दाना खाने की सलाह दी जाती है। ऐसा करके आप हाई कोलेस्ट्रॉल को अपने शरीर से कम कर सकते है।
हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए ग्रीन टी का उपयोग कर सकते है। यह भी घरेलू नुस्खो में से एक  माना जाता है। हाई कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित लोगों को इसे ज़रूर पीना चाहिए, क्योकि ग्रीन टी में एक तरह का पोषक तत्व होता है जिसे कहते है पोलीफिनोल्स  यह तत्व केवल ख़राब कोलेस्ट्रॉल  को कम ही नही करता बल्कि अच्छे कोलेस्ट्रॉल  को बढ़ाता भी है। यह पोलीफिनोल्स  शरीर में जाकर कोलेस्ट्रॉल के अवशोषण  को कम करता है और हाई कोलेस्ट्रॉल होने की संभावना को कम करके कोलेस्ट्रॉल से होने वाली कई गंभीर बीमारियों से बचाता भी है।
आवला हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए एक अचूक घरेलू नुस्खा है, उच्च कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए जो इसमें सबसे ज़रूरी पोषक तत्त्व है वह है विटामिन सी, इसके अलावा इसमें कई तरह के खनिज ,अमीनो एसिड  और फेनोलिक यौगिक  भी पाए जाते है, जो हाई कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद करते है। भारतीय रिसर्च में यह पाया गया है की आवला खाने से ख़राब कोलेस्ट्रॉल  शरीर में तेजी से नही बनता है और यह हाई कोलेस्ट्रॉल से होने वाली गंभीर बीमारियों जैसे दिल का दौरा, आघात के होने की संभावना को कम करता है।इसे चटनी ,अचार ,सूखा पाउडर या मुरब्बा के रूप में उपयोग किया जा सकता हैं
नारियल तेल के कई उपयोग होते है ये सभी जानते है, परन्तु हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी यह असरदार है। खाने में नारियल तेल इस्तेमाल करने से यह हमारे शरीर से उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर देता है और हाई कोलेस्ट्रॉल से होने वाली गंभीर बीमारियों से बचाता है। नारियल तेल में लॉरिक एसिड  नाम का पोषक तत्व होता है, जो ख़राब कोलेस्ट्रॉल  को बढ़ने से रोकता है जिससे हाई कोलेस्ट्रॉल होने की संभावना कम हो जाती है अथवा दिल की अनेक बीमारियों से बचा जा सकता है।इसको खाने में उपयोग किया जाता हैं
हाई कोलेस्ट्रॉल से बचाव के लिए जैतून का तेल भी एक कारगर घरेलू उपाय है। जैतून के तेल में मोनोअनसैचुरेटेड फैट  की मात्रा अधिक होती है, जो इसे अच्छे कोलेस्ट्रॉल  को बनाने में मदद करता है और ख़राब कोलेस्ट्रॉल  को बनने से रोकता है। यह रक्त में कोलेस्ट्रॉल को जमा होने से रोकता है। जैतून के तेल के उपयोग से हाई कोलेस्ट्रॉल की जानेलवा बीमारियों से बचा जा सकता है।
कुछ खाद्य पदार्थ जैसे काजू , बादाम, अखरोट, सोयाबीन का उपयोग करके भी आप अपने शरीर से हाई कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकते है।
कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए घरेलू लाल प्याज का उपयोग बहुत ही फायदेमंद होता है हाई कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने के लिए लाल प्याज के रस का उपयोग किया जाता है। कोलेस्ट्रॉल को कम करने में प्याज का उपयोग करने के लिए एक चम्मच ताजे प्याज के रस में एक चम्मच शहद को मिलाकर इसका सेवन करें। इसका सेवन आपको दिन में एक बार करना है इसके अलावा  आप कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए प्याज के रस के साथ अदरक और लहसुन को भी शामिल कर सकते हैं।
हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए घरेलू नुस्खो के आलावा नियमित रूप से व्यायाम करना भी बहुत ज़रूरी होता है क्योकि हमारे किसी भी तरह की कोई शारीरिक गतिविधिया न करने से भी हाई कोलेस्ट्रॉल होने की संभावना बढ़ जाती है, इसलिए  आप अपने शरीर को स्वस्थ और निरोगी रख सकते है और उच्च कोलेस्ट्रॉल के जोखिम से बच सकते है।
पैदल चलना – सुबह सुबह उठकर घुमने जाना या पैदल चलना स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। अगर आप सुबह उठकर 10 -15  मिनट पैदल चलेंगे तो काफी हद तक आप हाई कोलेस्ट्रॉल की संभावना को कम कर सकते है।
अगर आपकी हड्डियाँ मज़बूत है और आपको दौड़ना पसंद है तो ये आपके लिए उच्च कोलेस्ट्रॉल को कम करने में एक अचूक दवा का काम कर सकता है, क्योकि दौड़ने से न केवल आपका वज़न कम होगा बल्कि आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की संभावना भी काफी हद तक कम हो जाएगी। जिससे आपको हाई कोलेस्ट्रॉल की शिकायत नही होगी और आपका दिल एकदम स्वस्थ रहेगा।
साइकिल चलाना  – अगर आपको साइकिल चलाना पसंद है तो ये आपकी सेहत के लिए भी बहुत लाभदायक हो सकता है क्योकि साइकिल चलाने से भी हमारे शरीर में ख़राब कोलेस्ट्रॉल  का लेवल कम होता है और इससे कई गंभीर बीमारियों से भी बचा जा सकता है।
डांस  – डांस करना तो सभी को पसंद होता है तो क्यों न हम इसे अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए करे। डांस करने से वज़न तो कम होता ही है साथ में शरीर में तेजी से बढ़ने वाले कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को भी ये नियंत्रित करता है।
यह सत्य है की योग क्रिया करके कई तरह की गंभीर बीमारियों से निजात पाया जा सकता है। हाई कोलेस्ट्रॉल से बचाव के लिए भी हम कई तरह की योग क्रिया कर सकते है। हम आपको कुछ ऐसे ही आसान योग क्रियाओ के बारे में बतायेंगे जिनको करके आप हाई कोलेस्ट्रॉल के खतरे को कम कर सकते है और अपने शरीर को स्वस्थ बना सकते है। हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाले कुछ योग आसनों की सूची  इस प्रकार है-
कपाल भाति प्राणायाम
चक्रासन
शलभासन
सर्वांगासन
पश्चिमोत्तानासन
अर्ध मत्स्येन्द्रासन
यहाँ एक बात बताना जरुरी हैं की तली  चीज़ें ,घी कम से कम उपयोग करे ,यदि एक बार आप हृदय रोगी होकर ऊपर   के उपचार पर अधिक निर्भर नहीं रहना चाहिए। जो दवाये आप ले रहे हो उनको चिकित्सक के परामर्श से ले।
बचाव करना जरुरी है।