बेंगलुरु । भारतीय पुरूष हॉकी टीम के मुख्य कोच ग्राहम रीड ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण हुए लॉकडाउन से पहले के फिटनेस स्तर को हासिल करने के लिए खिलाड़ियों को धीरे-धीरे प्रयास करना होगा। लॉकडाउन के दौरान टीम तकरीबन छह महीने तक खेल से दूर रही। रीड ने कहा कि कौशल प्रशिक्षण विशेषकर बुनियादी व्यक्तिगत जरूरी चीजों पर ध्यान दिया जा रहा है। इससे खिलाड़ियों को छोटे समूहों में अभ्यास करने में आसानी होती है, जिसमें पर्याप्त सामाजिक दूरी होती है।’’
कोच ने कहा, ‘‘ हम अगले शिविर के आखिर तक दल के अधिकांश खिलाड़ियों के अभ्यास के दौरान कार्यभार और तीव्रता को चरणबद्ध तरीके से उस स्तर तक बढ़ा सकते हैं जो कोरोना महामारी के कारण आयी रूकावट से पहले था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह एक धीमी और जानबूझकर की गई प्रक्रिया है। जिसे इस तरह से तैयार किया गया है कि चोट का खतरा कम हो और खिलाड़ियों को अधिकतम लाभ मिल सके।’’ वहीं कप्तान मनप्रीत सिंह कहा, ‘‘ हमने धीरे-धीरे खेल में वापसी की प्रक्रिया शुरू की है। कोचों ने एक योजना बनाई है जिससे हम चरणबद्ध तरीके से पूरी तरह लय हासिल कर सकें। मैं फिर से अभ्यास के लिए वापस आकर खुश हूं।’’