प्रदेश सरकार द्वारा पूरे पैसे जमा करवाने के बाद 14 साल बाद भी लोहा कारोबारियों को नवीन लोहा मंडी की जमीन देने पर कारोबारियों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। बाजार बंद और धरने के बाद सोमवार को लोहा कारोबारियों ने बाजार में काले झंडे लगाकर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। लोहा कारोबारी मंगलवार की शाम को सरकार को सदबुद्धि लाने के लिए बाजार में ही सुंदरकांड का पाठ करेंगे।

एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय कट्ठल ने बताया कि नई लोहा मंडी के लिए सराकार ने व्यापारियों के 4 करोड़ रुपए लिए हैं। शासन के अधिकारी कोर्ट के निर्णय के बाद तय हुए रेट को मानकर कुछ कुछ नए नियम कायदे से मामले को पेचीदा बनाते जा रहे हैं। जब तक नई लोहा मंडी का निर्णय नहीं हो जाता तब तक सरकार के खिलाफ यह आंदोलन चलता रहेगा।