अब शिवराज के मंत्री की अभद्र टिप्पणी:बिसाहूलाल सिंह ने कांग्रेस प्रत्याशी की पत्नी को रखैल कहा; कांग्रेस का सवाल- शिवराज कहां मौन धरना देंगे

बिसाहूलाल सिंह अनूपपुर से भाजपा के प्रत्याशी हैं। वो पहले कांग्रेस में ही थे।

बिसाहूलाल अनूपपुर से भाजपा के प्रत्याशी हैं, उन्होंने यहां के कांग्रेस प्रत्याशी विश्वनाथ सिंह की पत्नी पर बयान दिया
कमलनाथ ने रविवार को डबरा में हुई चुनावी सभा में शिवराज कैबिनेट की मंत्री इमरती देवी को आइटम कहा था

मध्य प्रदेश के नेता महिलाओं के लिए जिन शब्दों का इस्तेमाल कर रहे हैं, उससे यहां की राजनीति का स्तर साफ दिखाई दे रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रविवार को शिवराज कैबिनेट की मंत्री इमरती देवी को "आइटम' कहा था। सीएम शिवराज और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस बयान के विरोध में सोमवार को मौन धरना दिया। हंगामा जारी है और इसी बीच अब शिवराज के ही मंत्री ने कांग्रेस प्रत्याशी की पत्नी के लिए बेहद अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया है।

मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने अनूपपुर से कांग्रेस प्रत्याशी विश्वनाथ सिंह कुंजाम की पत्नी को रखैल बताया है। दरअसल, विश्वनाथ सिंह ने चुनाव आयोग में दिए हलफनामे में पहली पत्नी का नहीं, अपनी दूसरी पत्नी राजवती का जिक्र किया है। पहली पत्नी की मौत के बाद विश्वनाथ सिंह ने राजवती से शादी की थी।

कांग्रेस में थे बिसाहूलाल, अपने पुराने करीबी को भी धमकाया
दरअसल, बिसाहूलाल अनूपपुर से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस प्रत्याशी विश्वनाथ सिंह ने अपने शपथ पत्र में पहली पत्नी का जिक्र न करते हुए रखैल का जिक्र किया है। बिसाहूलाल पहले कांग्रेस में ही थे। उन्होंने कांग्रेस में अपने करीबी रहे जिला अध्यक्ष जयप्रकाश अग्रवाल को भी धमकी दी। कहा कि 3 तारीख को जयप्रकाश की दुर्गति कर दूंगा।
कांग्रेस ने शिवराज के मंत्री के बयान पर सवाल उठाया है। कांग्रेस ने पूछा- शिवराज जी, आपके प्रत्याशी ने नारी के लिए जिन शब्दों का उपयोग किया है, उसने भाजपा की असलियत सामने ला दी है। आप कल कहां मौन धरना देंगे, ये बताएं।

कमलनाथ और इमरती देवी प्रकरण

कमलनाथ ने रविवार को डबरा की चुनावी सभा में इमरती देवी को आइटम कहा था। विवाद बढ़ा तो कमलनाथ ने कहा कि आइटम अपमानजनक शब्द नहीं है। विधायक का नाम नहीं याद आ रहा था इसलिए ऐसा बोल दिया। उधर, इमरती देवी ने जवाब में कहा- वो (कमलनाथ) बंगाल का आदमी है, वो महिला का सम्मान क्या जाने। कुर्सी जाने से पागल हो गए हैं।