औरंगाबाद। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री जयसिंगराव गायकवाड़ पाटिल ने मंगलवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया है। पाटिल ने अपना इस्तीफा महाराष्ट्र प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल को सुबह भेजा। औरंगाबाद में रहने वाले गायकवाड़ पाटिल ने बताया, 'मैं पार्टी के लिए काम करने का इच्छुक था, लेकिन पार्टी मुझे कोई मौका नहीं दे रही है। इसलिए मैंने यह कदम उठाया। चंद्रकांत पाटिल को लिखे पत्र में उन्होंने कहा कि वह भाजपा की प्रदेश इकाई और साथ ही पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दे रहे हैं। वरिष्ठ नेता ने कहा कि इससे पहले वह केंद्र एवं महाराष्ट्र सरकार में मंत्री के तौर पर अपनी सेवायें दे चुके हैं। उन्होंने दावा किया, मैं सांसद या विधायक नहीं बनना चाहता हूं। मैं पार्टी को मजबूत करने के लिए काम करना चाहता हूं और मैं एक दशक से जिम्मेदारी मांग रहा हूं। लेकिन, अब तक पार्टी ने मुझे कोई मौका नहीं दिया।' गायकवाड़ ने अपना इस्तीफा अपने फेसबुक अकाउंट पर भी शेयर किया है। गायकवाड़ महाराष्ट्र की बीड लोकसभा सीट से दो बार भाजपा के सांसद रह चुके हैं जबकि एक बार वह एनसीपी के सदस्य के तौर पर भी संसद पहुंच चुके हैं। 2009 में 15वीं लोकसभा के लिए गायकवाड़ मैदान में नहीं उतरे थे। गायकवाड़ 1973 से 78 तक जनसंघ से जुड़े रहे इसके बाद वह भाजपा युवा मोर्चा के बीड जिले के महासचिव बनाए गए थे। गायकवाड़ 13 अक्टूबर 1999 से 27 मई 2000 तक अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री के तौर पर केंद्रीय मंत्रिमंडल में रह चुके हैं। इसके बाद 27 मई 2000 से 1 सितंबर 2001 तक उन्हें खनन राज्य मंत्री का पद दिया गया था।